कोरोना वायरस से निपटने की तैयारियों का मुख्यमंत्री ने की समीक्षा

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को उप मुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन व अन्य अधिकारियों के साथ कोरोना वायरस को लेकर तैयारियों पर बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को बताया गया कि दिल्ली सरकार ने पूरी तैयारी कर ली है। दिल्ली के 25 अस्पतालों को मरीजों के लिए तैयार रखा गया है। जिसमें दिल्ली सरकार के 19 और 6 प्राइवेट अस्पतालों को कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए तैयार किया गया है। इन अस्पतालों में आइसोलेशन की सुविधा दी गई है। इसके लिए 230 बेड की व्यवस्था की गई है, जिसे अस्पताल में इलाज कर रहे डाक्टर व अन्य स्टाफ को भी दिया जाएगा। साथ ही दिल्ली सरकार 3.50 लाख से ज्यादा एन 95 मास्क बांटने की व्यवस्था की है। 8 हजार सेपरेशन कीट का इंतजाम किया है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि अभी दिल्ली के अंदर एक ही केस सामने आया है। सावधानी रखने की जरूरत है। जिसे सफदरजंग अस्पताल में रखा गया है। उनके परिवार को भी सफदरजंग अस्पताल में रखा गया है। पूरी दिल्ली में सावधानी बरती जा रही है। किसी को भी घबराने की जरूरत नहीं है।
दिल्ली सचिवालय के मीडिया सेंटर में प्रेस वार्ता के दौरान उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि आज मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल जी के साथ कोरोना वायरस को लेकर बैठक हुईं। जिसमें सम्बंधित विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे। सभी स्थितियों की समीक्षा की गई। दिल्ली में अभी एक मामला पॉजिटिव निकला है। उस मामले को मुख्यमंत्री जी के संज्ञान में लाया गया। कोरोना वायरस एक नया वायरस है। अभी इसका कोई खास इलाज नहीं है, लेकिन यह जिस तरह से पूरी दुनिया में फैल रहा है, इसे लेकर ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है। सरकार की तरफ से कुछ उपाय किए जा रहे हैं। भारत सरकार अपनी तरफ से कुछ उपाय कर रही है। आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी की प्रधानमंत्री जी से इस संबंध में चर्चा भी हुई है। कोरोना वायरस से दिल्ली व देश को सुरक्षित रखने में सरकार की तरफ से जो भी बन पड़ेगा, हम सबकुछ करेंगे। दिल्ली में दिल्ली सरकार की तरफ से भी हम लोग तैयारियां कर रहे हैं।
मनीष सिसोदिया ने कहा कि अलग-अलग अस्पतालों में कोरोना के मरीजों के लिए बेड सुरक्षित किए गए हैं। कोरोना वायरस की जांच की सुविधा अभी पूरे देश में सिर्फ 12 स्थानों पर ही है। हम कोशिश कर रहे हैं कि दिल्ली में भी जितनी ज्यादा हो सके, सुविधा की व्यवस्था जल्द की जा सके। स्वाइन फ्लू के दौरान जिस तरह से तैयारी की गई थी, उसी तरह दिल्ली के 25 अस्पतालों में तैयारी की जा रही है, ताकि कोई भी केस हो, उसे आईसीयू में रखा जा सके।
स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन के कहा कि कोरोना वायरस को लेकर दिल्ली सरकार ने काफी तैयारियां की है। दिल्ली के अंदर आरएमएल समेत दो अस्पतालों को आदर्श अस्प्ताल बनाया गया है। इसके अलावा, दिल्ली सरकार के 19 और 6 प्राइवेट अस्पतालों को कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए चुना गया है। इन अस्पतालों में आइसोलेशन की सुविधा दी गई है। इसके लिए 230 बेड की व्यवस्था की गई है। साथ ही हमने 3.50लाख से ज्यादा मास्क की व्यवस्था की है। इससे पीड़ित मरीज के इलाज के लिए कोई विशेष दवा अभी नहीं है। सबसे महत्वपूर्ण लोगों को जो ध्यान रखने वाली बात यह है कि यह फ्लू की तरफ फैलने वाली बीमारी है। इस बीमारी से ग्रसित व्यक्ति के संपर्क में आने पर इसे फैलने की संभावना है। इससे बचाव का साधारण तरीका यह है कि आप अपने हाथ को अच्छी तरह धोने के बाद ही अपने मुंह, आंख और नाक को छूएं। यह वायरस से बचाव का सबसे बेसिक तरीका है। इससे ग्रसित व्यक्ति के कभी भी काफी करीब न आएं। कम से दो से ढाई फीट की दूरी बनाए रखें। अगर किसी को खासी या छींक आती है तव मुंह नाक पर रुमाल आदि रख लें। नहीं तो इसके फैलने की संभावना रहती है। घबराए बिल्कुल नहीं। अभी दिल्ली के अंदर एक ही केस सामने आया है। पूरे देश मे सिर्फ तीन या चार केस आये हैं। सावधानी रखने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »