दिल्ली सरकार ने कोरोना को किया महामारी घोषित

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित करने का फैसला लिया है। उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना को लेकर संयुक्त समीक्षा बैठक की और कई महत्वपूर्ण फैसले लिए।
दिल्ली सरकार ने ऐहतियात के तौर पर सभी सीनेमा हाल और जिन स्कूलों व कॉलेजों में परीक्षाएं नहीं हैं, उन सभी को आगामी 31 मार्च तक बंद करने का फैसला लिया है।
दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एलजी हाउस पर उपराज्यपाल अनिल बैजल के साथ समीक्षा बैठक की। इस बैठक में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन समेत संबंधित विभागों के सभी अधिकारी मौजूद रहे।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना को लेकर उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए दिल्ली सरकार पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा कि बैठक में अभी तक जो भी कदम उठाए गए हैं, उन सभी की समीक्षा की गई है और कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं। दिल्ली सरकार ने सभी सीनेमा हाल को आगामी 31 मार्च तक बंद करने का फैसला लिया है। जहां पर एग्जाम नहीं है, वह सभी स्कूल और कॉलेज भी बंद किए जाएंगे। मरीजों को कोरेंटाइन करने के लिए हमारे पास पर्याप्त बेड हैं। अगर किसी को आइसोलेशन में रखना है, उसे कोरेंटाइन करना है, तो उसके लिए पर्याप्त बेड का इंतजाम किया गया है।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना को दिल्ली सरकार ने महामारी घोषित करने का फैसला लिया है।
इसके अलावा सभी सरकारी कार्यालय, सभी प्राइवेट कार्यालय, मॉल्स और शॉप समेत सभी सार्वजनिक स्थानों के लिए अनिवार्य किया जा रहा है कि वे आपने सार्वजनिक स्थान को डिसइंफेक्ट (कीटाणु रहित) करेंगे। सभी संस्थानों को प्रतिदिन अपने-अपने सार्वजनिक स्थानों को कीटाणु रहित करने का निर्देश दिया जा रहा है, ताकि कोरोना के खतरे से लोगों को बचाया जा सके।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली वासियों से अपील की कि सरकार जो फैसले ले रही है, वह कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए ले रही है। मुझे उम्मीद है कि सभी लोग इसमें सरकार की मदद करेंगे। हम देख रहे हैं कि पूरी दुनिया में यह बीमारी कितनी तेजी से फैल रही है। अभी तक कोरोना को फैलने से रोकने में जनता ने काफी सहयोग दिया है। इसी तरह से हम चौकन्ने रहते हैं, तो हमारा देश कोरोना वायरस से खतरे से बच सकता है।
गौरतबल है कि दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिए कई कदम उठाए हैं। एयरपोर्ट पर आने वाले सभी यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग के लिए दिल्ली सरकार के 40 डॉक्टर तैनात किए गए हैं। सभी यात्रियों और उनके संपर्क में आने वाले लोगों की जांच के बाद निगरानी की जा रही है। दिल्ली सरकार के 19 और 6 निजी अस्पतालों में मरीजों के इलाज के लिए अलग से बेड की व्यवस्था की गई है। सभी बसों और मेट्रो को प्रतिदिन कीटाणु रहित किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »