उपमुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों को ई-टेबलैट वितरित किये

namorar nao vou nao conrado e aleksandro Marseille 03 नई दिल्ली। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आज दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बच्चों के बीच ई-टेबलैट का वितरण किया। शालीमार बाग स्थित जीएसकेवी, एएच ब्लॉक तथा बीएल ब्लॉक परिसर में यह समारोह आयोजित हुआ। ग्यारहवीं कक्षा के 1902 स्टूडेंट्स को ई-टेबलेट दिए जा रहे हैं। आज दिल्ली के पचास स्कूलों के एक-एक विद्यार्थियों को श्री सिसोदिया ने तीनों कंपनियों क़े सीईओ की मौज़ूदगी में ई-टेबलैट सौंपे।

valor de aliança de namoro Mothīhāri श्री सिसोदिया ने बच्चों को ई-टेबलैट देते हुए इसे कोरोना महामारी के दौरान शिक्षा के लिए काफी महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में कल कोरोना का वैक्सीन तो बन जाएगा, लेकिन आज शिक्षा को होने वाले नुकसान की भरपाई किसी वैक्सीन से नहीं हो सकती। इसीलिए दिल्ली सरकार की कोशिश है कि इस नुकसान को कम से कम करें।

https://aycadvisors.co/837-cses72710-bonoloto-pronosticos.html श्री सिसोदिया ने कहा कि स्कूल बंद होने के कारण दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा देने के भरपूर प्रयास किए गए। लेकिन जिन बच्चों के पास साधन नहीं, उन्हें शिक्षा से जोड़े रखना बड़ी चुनौती है।

श्री सिसोदिया ने कहा कोरोना संकट के कारण सरकार के पास इस साल फंड्स की कमी हैं। इसीलिए हमने विभिन्न कंपनियों से सीएसआर में बच्चों की मदद का आग्रह किया। हमें खुशी है कि टाटा पावर ने 1059, बीएसईबी राजधानी पावर ने 543 और बीएसईबी यमुना पावर ने 300 टेबलैट दिए हैं। इन कंपनियों ने मदद करने का बड़ा निर्णय लिया कि अपने पैसे लगाकर हमारे बच्चों के लिए टेबलैट दिया।

श्री सिसोदिया ने अन्य कंपनियों से भी बच्चों की ऑनलाइन लर्निंग में सपोर्ट का आह्वान किया। “ये टेबलेट्स सिर्फ 1902 बच्चों की ज़रूरतों को पूरा करते हैं । अभी बहुत सारे बच्चों को इसकी ज़रुरत है”।

श्री सिसोदिया ने बच्चों से कहा कि ये टेबलैट आपके सपनों को सच करने का टूल हैं। आप अपनी पढ़ाई के लिए इसका प्रयोग करें और परीक्षा के बाद स्कूल को लौटा दीजिए ताकि अन्य ज़रूरतमंद बच्चों के काम आए।

आज ई-टेबलैट पाने वालों बच्चों ने इसे अपनी शिक्षा के लिए बेहद महत्वपूर्ण बताते हुए श्री सिसोदिया को धन्यवाद दिया। एक छात्रा रजनी ने कहा कि हम तीन भाई-बहन हैं। पापा सुबह चले जाते हैं और रात को वापस आते हैं। उस बीच मम्मी का फोन हमारे पास होता है। कई बार हम तीनों की क्लास एक ही टाइम पर होती है। ऐसे में हमें अपनी पढ़ाई में बहुत दिक्कत होती है। अब यह टैब बहुत मदद करेगा।

अशोक विहार फेज 2 के छात्र सत्यम ने कहा कि हमारे घर में केवल एक फोन है। सबलोग उसी से काम चलाते हैं। कई बार फोन खराब हो जाता है, क्लासेज छूट जाती है। हमें दूसरों से फोन मांगना पड़ता है। अब टैब मिलने से हमें बहुत मदद मिली है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »