भाजपा हर कदम पर पीड़ित परिवार के साथ है : मनोज तिवारी

नगर संवाददाता
नई दिल्ली। संतोष कोली की मृत्यु को लेकर राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग द्वारा सी.बी.आई. जांच के आदेश पर दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने पत्रकार सम्मेलन किया जिसमें स्वर्गीय श्रीमती संतोष कोली की माता जी श्रीमती कलावती कोली, करावल नगर के विधायक श्री कपिल मिश्रा, अधिवक्ता पंकज मिश्रा, मीडिया प्रभारी प्रत्यूष कंठ, मीडिया प्रमुख अशोक गोयल, प्रवक्ता श्रीमती टीना शर्मा उपस्थित थे। मनोज तिवारी ने कहा कि संतोष कोली एक बहादुर बेटी थी जो हमेशा आम आदमी की समस्याओं को लेकर काम कर रही थीं लेकिन उनकी मृत्यु के पांच वर्ष बाद भी दोषियों को सजा नहीं मिल सकी। राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने श्रीमती कलावती कोली की शिकायत पर सी.बी.आई. जांच के आदेश दिये। संतोष कोली की माता को अपनी बेटी की मृत्यु के दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी उनके साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री देश भर में दलित समाज में कोई भी घटना पर झूठे आंसू बहाते हैं लेकिन अपनी ही पार्टी की कर्मठ कार्यकर्ता की मृृत्यु के बाद न्याययिक जांच में सहयोग न करना उनके दोहरे मानदंड को उजागर करता है। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि वो हर कदम पर पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए हर संभव मदद करेंगे और साथ ही सी.बी.आई. को पत्र लिखकर केस को आगामी 60 दिनों के भीतर खत्म कर दोषियों की सजा के लिए अपील करेंगे। संतोष कोली की माता श्रीमती कलावती कोली ने कहा कि संतोष कोली की मृत्यु कोई दुर्घटना नहीं यह एक सोची समझी राजनीतिक हत्या थी, जिसका लाभ सीधे-सीधे आम आदमी पार्टी और मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को मिला, नहीं तो क्या कारण है कि आज तक अनुसूचित जाति समाज से आने वाली संतोष कोली को अब तक न्याय के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है। घटना का जिक्र करते हुये कहा कि मेरी बेटी को वंदना नाम की सहयोगी ने घर पर आकर मुख्यमंत्री के निवास कौशाम्बी जाने को बार-बार विवश किया और कई बार मना करने के बावजूद संतोष कोली पार्टी के मुखिया का निर्देश टाल नहीं सकी और उसके बाद जो दुर्घटना घटी वो पूरे दिल्लीवासियों को हतप्रभ कर गई। कपिल मिश्रा ने पत्रकारों के समक्ष इन बातों का खुलासा करते हुये कहा कि कई बार धर्मेन्द्र कोली न्याय के लिए मुख्यमंत्री से मिले जिसमें मैंने सहयोग किया, फिर भी न्याय नहीं केवल आश्वासन मिला। मुख्यमंत्री द्वारा मृतक की मां को घर से बार-बार बेइज्जत करके बाहर भेजा गया। इस दुर्घटना का खुलासा करते हुये श्री मिश्रा ने कहा कि बाइक चलाने वाला बिलकुल सही सलामत मिलता है और बाइक पूरी जल जाती है और संतोष कोली झुलस जाती है एवं उनकी मृत्यु हो जाती है यह एक किसी गहरी शाजिस की ओर इशारा करती है। इस शाजिस में दिल्ली के प्रभावशाली पद पर बैठे लोग शामिल हैं। संतोष कोली की माता जी ने जो दो लोगों, वंदना और सरिता का जिक्र किया है वो दोनों ही आज आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार में बड़े प्रभावशाली पदों पर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »