ताजा ख़बर

शिक्षक हिंदी कार्यशाला का आयोजन

नगर संवाददाता

नई दिल्ली। दिल्ली हिंदी साहित्य सम्मेलन एवं नई दिल्ली पालिका परिषद् के सहयोग से ‘हिंदी शिक्षक कार्यशाला’ का आयोजन कन्वेशन हॉल, नई दिल्ली में किया गया। जिसमें नई दिल्ली पालिका परिषद् एवं नवयुग स्कूल के लगभग 110 शिक्षक उपस्थित थे। विशिष्ट अतिथि के रूप में बी.एस. भाटी, सदस्य नई दिल्ली पालिका परिषद् एवं आर.पी. गुप्ता, निदेशक, शिक्षा नई दिल्ली पालिका परिषद्, श्रीमती एस.आर. सपौलिया, संयुक्त निदेशक, नवयुग स्कूल तथा अतिथि के रूप में सुप्रसिद्ध कवि श्री गजेंद्र सौलंकी पधारे। सम्मेलन अध्यक्षता एवं पूर्व महापौर श्री महेश चंद्र शर्मा का प्राप्त हुआ। कार्यशाला में डॉ. रवि शर्मा ने मानक हिंदी और वर्तनी के संबंध में डॉरु हरीश अरोड़ा ने नई शिक्षण प्रणाली और डॉ. सुधा शर्मा ने रोचक हिंदी शिक्षण तथा आचार्य रामदत्त मिश्र ‘अनमोल’ ने शिक्षण में शिक्षकों का दायित्व का प्रशिक्षण दिया। श्री गजेंद्र सोलंकी ने हिंदी महिमा पर काव्य पाठ किया।

सम्मेलन के अध्यक्ष महेश चन्द्र शर्मा ने कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए कहा कि आज इस प्रकार की कार्यशाला का आयोजन किया जाना क्यों जरूरी है। उन्होंने बताया कि आज जिस प्रकार से छात्रों में राष्ट्रभाषा के प्रति उदासीनता आ रही है वह एक गंभीर विषय है। शिक्षकों का दायित्व है कि वह छात्रों को बताएं कि हिंदी केवल भाषा ही नहीं बल्कि हमारी अस्मिता की पहचान है। साथ ही शिक्षकों को नई-नई विधियों से परिचित होना चाहिए।

आर.पी. गुप्ता ने इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए दिल्ली हिन्दी साहित्य सम्मेलन को बधाई देते हुए कि आज बच्चों में राष्ट्रभाषा के प्रति जो उदासीनता पैदा हो रही है उसे दूर करने की आवश्यकता है। इसके लिए जरूर है कि बच्चों को अपनी भाषा के प्रति प्रेरित किया जाए। इसके लिए शिक्षकों का दायित्व है कि वह किस प्रकार उन्हें अपनी भाषा से जोड़ें। उन्होंने सम्मेलन के अध्यक्ष श्री शर्मा से आग्रह किया कि वह प्राइमरी शिक्षकों के लिए भी एक कार्यशाला का आयोजन शीघ्र करें |    कार्यक्रम में सुरेश चंद्र दुबे, सुरेश खंडेलवाल, डॉ. संजीव कुमार आदि हिंदी प्रेमी साहित्यकार भी उपस्थित थे। विजय पाल, शिक्षा अधिकारी ने सभी अतिथियों एवं शिक्षकों को धन्यवाद दिया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *