ताजा ख़बर

गैर कानूनी सीलिंग के खिलाफ कांग्रेस ने जोरदार प्रदर्शन किया

नगर संवाददाता

नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री अजय माकन ने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार और आप पार्टी की दिल्ली सरकार दोनों छोटे-छोटे मुद्दों पर कोर्ट में आपस में तो लड़ती है परंतु दिल्ली में 8,75,308 से भी उपर चल रहे औद्योगिक संस्थानों पर पिछले कुछ महीनों से सीलिंग की लटक रही तलवार का कोई स्थायी हल नही निकाल रही हैं। श्री माकन ने कहा कि सत्ता में बैठी पार्टियों के नेताओं के निहीत स्वार्थ है जो चाहते है कि घरों में चल रहे ऐसे उद्योग धंधे भी बंद हो जाए जो किसी भी प्रकार का प्रदूषण नही फैलाते ताकि इन नेताओं के द्वारा औद्योगिक क्षेत्रों में ली गई सम्पतियों के दाम बढ़ जाए और वे मोटा माल कमा सके तथा चल रहे बड़े-बड़े माल को फायदा पहुचाया जा सके।

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन के नेतृत्व में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के निवास पर दिल्ली में प्रदूषण न फैलाने वाले उद्योगों की गैर कानूनी सीलिंग किए जाने के खिलाफ कांग्रेस के हजारों कार्यकर्ताओं के साथ-साथ दिल्ली के छोटे-उद्योग धंधा चलाने वालों दुकानदारों तथा व्यापारियों ने एक जोरदार प्रदर्शन किया। जिसमें प्रदर्शनकारियों हाथों में नारे लिखी तख्तियां सीलिंग बंद करो, वरना केजरीवाल गद्दी छोड़ो आदि लिए हुए थे।   प्रदर्शनकारियों में प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय माकन, पूर्व सांसद सज्जन कुमार, रमेश कुमार, दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री अरविन्दर सिंह लवली, हारुन यूसूफ, डा. नरेन्द्र नाथ, अ.भा.क.कमेटी के सचिव नसीब सिंह, मुख्य प्रवक्ता शर्मिष्ठा मुखर्जी, उतरी निगम में कांग्रेस दल के नेता मुकेश गोयल, पूर्व विधायक मुकेश शर्मा, विपिन शर्मा, जय किशन, भीष्म शर्मा, सुरेन्द्र कुमार, मालाराम गंगवाल, हरी शंकर गुप्ता, विजय लोचव, तरविन्दर सिंह मारवाह, अनिल भरद्वाज, वरिष्ठ नेता चतर सिंह, ब्रहम यादव, कैलाश जैन, ओम प्रकाश बिधूड़ी, जगप्रवेश कुमार, जिला अध्यक्ष मौ0 उस्मान, विरेन्द्र कसाना, निगम पार्षद रिंकू, अ.भा.म.क. की महासचिव नीतू वर्मा, मुख्य मीडिया काआर्डिनेटर मेहदी माजिद, मीडिया काआर्डिनेटर शिवम भगत, अब्दुल वाहिद कुरेशी मुख्य रुप से मौजूद थे।

प्रदर्शनकारियों को सम्बाधित करते हुए श्री अजय माकन ने कहा कि  बडे़ दुख की बात है कि दिल्ली में ऐसे उद्योग धंधों को भी सील किया जा रहा है जो किसी भी प्रकार का प्रदूषण नही फैलाते, जिसके कारण न सिर्फ व्यापारी बल्कि लाखों मजदूर बेरोजगार हो रहे हैं और भाजपा की केन्द्र सरकार और आप पार्टी की दिल्ली सरकार दोनो माॅनिटरिंग कमेटी तथा कोर्ट के सामने तथ्यपूर्ण पक्ष रखने में विफल रहे है। श्री माकन ने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार और आप पार्टी की दिल्ली सरकार दोनो मिलकर दिखावे के लिए नूरा कुश्ती लड़ते  है, परंतु जब दिल्ली के छोटे-छोटे व्यापारियों को सीलिंग से राहत दिलाने की बात आती है तो वे बहाने बनाकर अपना पल्ला झाडने की कोशिश करते है। श्री माकन ने कहा कि हाउस होल्ड इंडस्ट्री की लिस्ट में 121 उद्योगों को शामिल किया गया है, केन्द्र सरकार और अन्य ऐसे छोटे-छोटे उद्योगों को जो किसी भी प्रकार का प्रदूषण नही फैलाते उनको हाउस होल्ट इंडस्ट्री की परिभाषा में डाला में जाना चाहिए। ताकि उन उद्योगों पर लटक रही तलवार से बचाया जा सके।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *