ताजा ख़बर

कांग्रेस की ‘व्यापार बचाओ-मजदूर बचाओ’ रैली 14 सितम्बर को

नगर संवाददाता
नई दिल्ली। गैर कानूनी सीलिंग के खिलाफ कांग्रेस पार्टी द्वारा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन के नेतृत्व में शुरु किए गए ‘‘न्याय युद्ध’’ के तीसरे चरण में पार्टी ने नई दिल्ली संसदीय क्षेत्र के पदम सिंह रोड़ करोल बाग में आगामी 14 सितम्बर को सायं 4 बजे ‘‘व्यापार बचाओ-मजदूर बचाओ’’ रैली करने का निर्णय किया है। अभियान समिति के संयोजक व पार्टी के वरिष्ठ नेता मुकेश शर्मा ने आज एक संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा करते हुए कहा कि करोल बाग की रैली में कांग्रेस ‘‘न्याय युद्ध’’को नई दिशा देते हुए गैर कानूनी सीलिंग के खिलाफ सख्त और सीधी कार्रवाई करने का ऐलान करेगी।
संवाददाता सम्मेलन में युवक कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व पार्टी नेता ब्रहम यादव व करोल बाग जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मदन खोरवाल भी मौजूद थे।
मुकेश शर्मा ने कहा कि पार्टी ने गैर कानूनी सीलिंग के साथ-साथ राजधानी में भाजपा के नेतृत्व वाली दिल्ली नगर निगम द्वारा गैर कानूनी तरीके से पेनेल्टी के साथ कन्वर्जन शुल्क के तौर पर कारोबारियों की जेब पर डाली जा रही सरकारी डकैती के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है। श्री शर्मा ने पूरा खुलासा करते हुए बताया कि जब तत्कालीन शहरी विकास राज्यमंत्री श्री अजय माकन के कार्यकाल मे 2538 सड़कों को मिक्स लैंड यूज और कमर्शियल करने की अधिसूचना जारी की गई थी उस समय यह निर्णय किया गया था कि एकमुश्त 8 साल का कन्वर्जन शुल्क देने के बाद कोई शुल्क नही देना पड़ेगा या हर साल लगातार 10 साल तक शुल्क देने के बाद कोई शुल्क नही देना पड़ेगा। लेकिन आज दोनो ही बातों को निगम मानने से मना कर रहा है और 54 प्रतिशत पेनेल्टी के साथ जबरन कन्वर्जन शुल्क वसूला जा रहा है।
मुकेश शर्मा व श्री ब्रहम यादव ने कहा कि पार्टी करोल बाग रैली में इस सरकारी डकैती के खिलाफ न केवल आवाज उठाएगी बल्कि निगम को मजबूर किया जाएगा कि वो इस सरकारी डकैती को बंद करें। दोनो नेताओं ने बताया कि दिल्ली नगर निगम ने 2000 करोड़ से भी ज्यादा की राशि राजधानी से वसूली है, जो न केवल गैर कानूनी है, बल्कि तयशुदा नियमो के खिलाफ भी है।
श्री शर्मा व श्री यादव ने कहा कि 2006 में उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद दिल्ली न केवल जल रही थी, बल्कि कानूनी व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह चरमराने के बाद फौज को भी एलर्ट कर दिया गया था। उन्होंने याद दिलाया कि उस समय तत्कालीन शहरी विकास राज्यमंत्री अजय माकन ने न केवल 72 बार मास्टर प्लान में संशोधन करवाए,बल्कि पांच बार बाकायदा लोकसभा से दिल्ली वालों को राहत दिलवाने के लिए कानून बनाया गया। उन्होंने कहा कि 2538 सड़कों को अधिसूचित करके उस समय 50 लाख से भी अधिक लोगों को राहत दी गई थी और कांग्रेस ने फौरी राहत देने के लिए अध्यादेश लाने से भी नही चूकी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि 351 सड़कों की अधिसूचना को भी दिल्ली सरकार ने रोक रखा है।
मुकेश शर्मा ने संवाददाताओ को बताया कि करोल बाग देश की सबसे पुरानी और ऐतिहासिक मार्केट है। उन्होंने करोल बाग जैसे क्षेत्र में इस रैली का आयोजन गैर कानूनी सीलिंग को रोकने के लिए मील का पत्थर साबित होगी। उन्होंने कहा कि श्री माकन के अपने संसदीय क्षेत्र से भाजपा और आप पार्टी को गैर कानूनी सीलिंग के मुद्दे पर कांग्रेस बड़ी चुनौती देने वाली है। उन्होंने बताया कि बड़ी तादाद में करोल बाग क्षेत्र के व्यापारी, छोटे दुकानदार व मजदूरों ने श्री माकन से मुलाकात की है और ‘‘न्याय युद्ध’’ को पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया है। रैली में गैर कानूनी सीलिंग से बेरोजगार हुए हजारों मजदूर भी शामिल होंगे। ज्ञातव्य है कि श्री माकन पुराने ट्रेड यूनियन नेता भी रहे है।
मुकेश शर्मा व ब्रहम यादव ने कहा कि इसकी तैयारियों के लिए लगभग 200 छोटी बडी नुक्कड़ सभाए अगले तीन दिन में की जाऐगी। इसके अलावा पार्टी ने रैली के प्रचार के लिए पांच रथ बनवाए है और बड़े पैमाने पर प्रचार सामग्री छापी गई है। उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली पुलिस को रैली के संबध में अग्रिम सूचना दी जा चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *