ताजा ख़बर

केजरीवाल सरकार पूरी तरह से भ्रष्टाचार में लिप्त है : तिवारी

नगर संवाददाता
नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने मंगलवार को आम आदमी पार्टी को नोटिस जारी कर कहा कि 2014-15 वित्तीय वर्ष में कथित तौर पर अपनी वास्तविक आय को छुपाने के लिये हवाला कारोबारियों से 2 करोड़ का चंदा लेकर स्वैछिक दान के रूप में दिखाया था। यह 2 करोड़ रूपये जो आम आदमी पार्टी के खाते में जिन कंपनियों से आये थे वे फर्जी थीं। जांच में पाया गया है कि उन फर्जी कंपनियों का एक ही डाॅयरेक्टर है जिसके घर से नोटबंदी के समय बहुत सारा कैश पाया गया था अर्थात यह 2 करोड़ रूपये हवाला का पैसा था जो आम आदमी पार्टी के खाते में आया था। चुनाव आयोग द्वारा जारी नोटिस में यह भी बताया गया है कि आम आदमी पार्टी के खाते में 67.67 करोड़ रूपये आये थे जो रकम 20 हजार रूपये से ज्यादा थी। इस राशि में से आम आदमी पार्टी ने केवल 54.15 करोड़ रूपये की जानकारी दी थी जबकि आयकर विभाग के नियमानुसार 20,000 रूपये से ऊपर की राशि का विवरण देना होता है। आम आदमी पार्टी ने इसका कोई विवरण नहीं दिया? चुनाव आयोग द्वारा जारी नोटिस में केन्द्रीय प्रत्यक्षकर बोर्ड के निष्कर्सों को दोहराया है जिसमें आम आदमी पार्टी ने अपने खातों में कुल 13.16 करोड़ रूपये का कोई हिसाब नहीं दिया था। अर्थात यह पैसा अज्ञात श्रोतों से आया था जिसकी जानकारी आम आदमी पार्टी द्वारा नहीं दी गई। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा है कि इस घटना से यह साफ हो गया है कि आम आदमी पार्टी द्वारा आर.पी. एक्ट की धारा 29(सी) का उल्लंघन किया गया है। आम आदमी पार्टी ने अपनी अधिकारिक वेबसाइट पर गलत प्रकटिकरण और गलत जानकारी दी है जो सीधे तौर पर नियमों को ताक पर रखकर किया गया है। यह दर्शाता है कि आम आदमी पार्टी द्वारा न सिर्फ पैसे को छुपाने का प्रयास किया गया बल्कि चुनाव आयोग को भी जो जानकारी दी गई थी वह गलत निकली। अन्य घोटालों की तरह यह भी आम आदमी पार्टी का एक और घोटाला साबित होगा जिसका जबाव आम आदर्मी पार्टी के सुप्रीमों अरिवंद केजरीवाल को जनता के समक्ष देना होगा। श्री तिवारी ने कहा भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने का वादा करके सत्ता में आई केजरीवाल सरकार और आम आदमी पार्टी आज खुद ही भ्रष्टाचार में पूरी तरह से लिप्त है और आम आदमी पार्टी द्वारा हवाला कारोबारियों के साथ सांठगांठ कर उनसे चंदा लेकर उनका पैसा सफेद करने के षडयंत्र का पूरा खुलासा हो चुका है। आम आदमी पार्टी का यह पहला घोटाला नहीं है। इसके अलावा अनेक घोटाले जैसे राशन घोटाला, टैंकर घोटाला, प्याज घोटाला, चीनी घोटाला आदि लगातार सामने आ चुके हैं। अब जनता आम आदमी पार्टी के षडयंत्र को समझ चुकी है और इसका जबाव अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी को जरूर देगी। मनोज तिवारी ने चुनाव आयोग से मांग की है कि नियमों के तहत आम आदमी पार्टी के चुनाव चिन्ह की मान्यता को तुरन्त रद्द किया जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *