ताजा ख़बर

कांग्रेस रेहड़ी पटरी वालों को न्याय दिलाने के लिए लड़ाई लड़ेगी: अजय माकन

नगर संवाददाता
नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने आज आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार पर धावा बोलते हुए दिल्ली में रेहड़ी पटरी वालों को कांग्रेस सरकार द्वारा बनाए गए रेहड़ी पटरी सुरक्षा कानूनी 2014 के अन्तर्गत दिए गए अधिकारों को दिलाने के लिए ‘‘मेरा हक, ऐथे रख’’ नाम की मुहिम की घोषणा की और कहा कि दिल्ली कांग्रेस रेहड़ी पटरी वालों को न्याय दिलाने के लिए सड़कों पर उतर कर दिल्ली सरकार, एनडीएमसी तथा दिल्ली नगर निगम के खिलाफ तथा न्यायालय में जाकर लड़ाई लड़ेगी। श्री माकन ने कहा कि जिस समय 2014 में मैं केन्द्र सरकार में शहरी विकास मंत्री था उस समय हमने देश भर के रेहड़ी पटरी वालों के हितों की रक्षा के लिए THE STREET VENDORS (PROTECTION OF LIVELIHOOD AND REGULATION OF STREET VENDING) ACT, 2014 बनाया था ताकि उनकी जीविका, अधिकार तथा सामाजिक सुरक्षा की सुरक्षा की जा सके।
कंस्ट्टीट्यूशनल क्लब के स्पीकर हॉल में संवाददाताओं को सम्बोधित करते हुए अजय माकन ने कहा कि यद्यपि रेहड़ी पटरी सुरक्षा कानून पूरे देश में लागू हो गया है परंतु आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार ने अभी तक यह पूरी तरह से लागू नही किया है, जबकि आप पार्टी की दिल्ली सरकार 2015 में सत्ता में आ गई थी। श्री माकन ने कहा कि रेहड़ी पटरी कानून को दिल्ली में लागू करने के लिए मैं खुद सर्वोच्च न्यायालय तथा दिल्ली उच्च न्यायालय गया। श्री माकन ने कहा कि रेहड़ी पटरी को बनाने के पीछे यह मंशा थी कि रेहड़ी पटरीवालों के अधिकारों के लिए टाउन वेंडिंग कमेटी में रेहड़ी पटरी वाले या उनके चुने हुए नुमाईंदे तथा ऐसी एनजीओ जो रेहड़ी पटरी वालों के अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ती है, उनको रखा जाएगा ताकि वे वेंडिंग व नॉन वेंडिग जोन तथा उनको लाईसेंस दिए जाने के फैसलों में भागीदार बन सके और सरकार इस कार्य में एकतरफा फैसले न ले सके।
श्री माकन ने कहा कि रेहड़ी पटरी कानूनी 2014 के तहत अभी तक दिल्ली में सभी टाउन वेंडिग कमेटियां बन जानी चाहिए थी तथा सर्वे पूरा होकर रेहड़ी पटरी वालों के लिए टाउन वेंडिग जोन भी चिन्हित हो जाने चाहिए थे ताकि विभिन्न सरकारी संस्थाऐं उनको परेशान न करें।
श्री माकन ने कहा कि इस कानून के तहत 6 महीने में एक योजना बनाकर टाउन वेन्डिंग कमेटियों का गठन करना था व एक साल के अंदर टाउन वेन्डिंग कमेटी से सम्बन्धित रुलस् बनाऐ जाने थे। टाउन वेन्डिंग कमेटी में 40 प्रतिशत रेहड़ी पटरी वाले या उनके चुने हुए प्रतिनिधियों को शामिल करना था तथा 10 प्रतिशत में ऐसी एनजीओ आनी थी जो कि रेहड़ी पटरीवालों के अधिकारों के लिए काम करती है। बाकी 50 प्रतिशत में आर.डब्लू.ए. के प्रतिनिधि, व्यापारियों के प्रतिनिधि, यातायात पुलिस के प्रतिनिधि, निगमों के प्रतिनिधि तथा इंजीनियरस् को शामिल करना था।
सम्मेलन में अजय माकन के अलावा अखिल भारतीय असंगठित कामगार कांग्रेस के सचिव अरविन्द सिंह, वरिष्ठ नेता चतर सिंह, दिल्ली रेहडी पटरी कांग्रेस के अध्यक्ष अनुराग शंकर, दिल्ली कांग्रेस की प्रवक्ता पूजा बाहरी, मुख्य मीडिया कॉआर्डिनेटर मेहदी माजिद तथा कॉआर्डिनेटर शिवम भगत भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *