ताजा ख़बर

जैन मायनोरीटी फेडरेशन के ‘पधारो शिखरजी’ अभियान का झारखंड मुख्यमंत्री रघुवर दास की उपस्थिती में शुभारंभ

नगर संवाददाता
रांची (झारखंड) । जैन धर्मीयोंकी पवित्र तीर्थस्थली सम्मेदशिखरजी (झारखंड) पर विश्वभर के जैन श्रध्दालुओं को आमंत्रित करने हेतु ऑल इंडिया जैन मायनोरीटी फेडरेशन द्वारा ‘पधारो शिखरजी’ अभियान का शुभारंभ झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास तथा केंद्रीय अल्पसंख्याक कार्य राज्यमंत्री डा. विरेंद्रकुमार तथा फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललित गांधी एवं अन्य गणमान्योंकी उपस्थिती में झारखंड मुख्यमंत्री कार्यालय में कीया गया। सम्मेदशिखरजी तीर्थ संबंधी विविध विषयों पर माननीय मुख्यमंत्री महोदय से चर्चा हेतु आयोजित विशेष बैठक में केंद्रीय मंत्री डा. विरेंद्रकुमार तथा फेडरेशन के अध्यक्ष ललित गांधी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री रघुवर दास से मिला। श्री सम्मेद शिखरजी तीर्थ की विभिन्न छोटी मोटी समस्याएं दूर करना तभी संभव होगा जब वहां पर धार्मिक यात्रा हेतु जैन धर्मावलम्बियों का आगमन बढ़ेगा, जिससे स्थानीय समाज को रोजगार भी अधिक मात्रा में मिलेगा और स्वाभाविक रूप से परिसर का विकास के साथ तीर्थ की पवित्रता बनी रहेगी। सम्मेद शिखरजी तीर्थ की पवित्रता बने रहना, सुरक्षित रहना इसके लिए लोगों का आगमन बढ़े इस हेतु से ऑल इंडिया जैन माइनॉरिटी फेडरेशन ने ‘पधारो शिखरजी अभियान’ प्रारंभ किया है ऐसी जानकारी फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललित गांधी ने इस अवसर पर दी। इस अभियान का भारत के सभी राज्यों के साथ विश्व भर में बसनेवाले जैन समाज में विशेष रूप से करने की योजना फेडरेशन ने बनाई है। जिसमें आनेवाले यात्रियों के आवागमन की सुविधाओं को सुचारू रूप देना, यात्रा का शास्त्रोक्त मार्गदर्शन उपलब्ध कराना और मंदिरों के रखरखाव और तीर्थ क्षेत्र की पवित्रता संबंधी आवश्यक उपाय योजना करना इन बातों का समावेश है ऐसी जानकारी भी दी। मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि, सम्मेद शिखरजी जैन धर्मावलम्बियों का पवित्र तीर्थस्थल है और सरकार इसकी पवित्रता बनाये रखेगी। तीर्थस्थल की यात्रा के दौरान धर्मावलम्बियों को किसी प्रकार की कठिनाई नहीं हो, इस हेतु सरकार उस क्षेत्र में आधारभूत संरचनाओं को मजबूती देने के लिए वचनबद्ध है। केंद्रीय अल्पसंख्यांक राज्यमंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार ने जैन धर्मावलम्बियों की भावना से माननीय मुख्यमंत्री को अवगत कराते हुए उनसे कारवाई की अपेक्षा व्यक्त की।
मुलाकात के दौरान प्रतिनिधिमंडल ने माननीय मुख्यमंत्री के समक्ष यह चिंता जताई कि, गत कुछ दिनों से जैन धर्मावलम्बियों के पवित्र तीर्थस्थल सम्मेद शिखर जी के सन्दर्भ में विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर फैलाई जा रही खबरें, जिसके तहत सम्मेद शिखर जी के आसपास कई निर्माण कार्यों से शिखर जी की सार्थकता कम होने से जैन अनुयायिओं में चिंता व्याप्त है। ऑल इंडिया जैन मायनोरीटी फेडरेशन के अध्यक्ष ललित गांधी ने मुख्यमंत्री से यह आग्रह किया कि, सम्मेद शिखर जी की अखंडता को बनाये रखना हम सबकी नैतिक जिम्मेदारी है। तीर्थस्थल के आसपास ऐसा को भी निर्माण कार्य नहीं हो, जिससे जैन धर्मावलांबियों की आस्था को ठेस पहुंचे। माननीय मुख्यमंत्री ने आस्वस्त किया कि सरकार सम्मेद शिखर जी की पवित्रता बनाये रखेगी। सम्मेद शिखरजी की यात्रा को सुखद बनाने के लिए सरकार वहां के आसपास के क्षेत्रों को विकसित करने का कार्य भी करेगी। प्रतिनिधिमंडल ने यह भी कहा कि सम्मेद शिखर जी के आसपास के स्थानीय जनजातियों के कल्याणार्थ यदि स्वास्थ्य व शिक्षा के क्षेत्र में सरकार द्वारा कोई कार्ययोजना हो, तब वे जैन समुदाय की ओर से करने को इच्छुक है। मौके पर ही ऑल इंडिया जैन मायनोरीटी फेडरेशन द्वारा आरम्भ पधारो शिखर जी अभियान की शुरुआत माननीय मुख्यमंत्री ने की। प्रतिनिधिमंडल में राष्ट्रिय महामंत्री संदीप भंडारी, जैन समाज के अग‘णी कैवनभाई झवेरि, हिमांशु भाई राजा, प्रितेश शाह, हितेश भाई मोता, फेडरेशन के राष्ट्रीय संयुक्त मंत्री सौरभ भंडारी, मध्यप्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष उमेश जैन, झारखण्ड के प्रांतीय अध्यक्ष सुरेश बोथरा, जिनेन्द्र कावेड़िया, दिल्ली के प्रांतीय अध्यक्ष जे. के. जैन समेत अन्य लोग सम्मिलित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *