ताजा ख़बर

मनोज तिवारी ने कथा व्यास श्री कौशिक जी महाराज का आशीर्वाद प्राप्त किया

नगर संवाददाता
नई दिल्ली। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष एवं उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी ने आज भदावर वृज सेवा मंडल द्वारा चैथा पुस्ता, करतार नगर, यमुना खादर में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा में जाकर भागवत वचन सुने और कथा व्यास श्री कौशिक जी महाराज का आशीर्वाद प्राप्त किया।
इस अवसर पर उपस्थित हजारों श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए मनोज तिवारी ने कहा कि हिंदुस्तान की अपनी एक संस्कृति है जो हमें जीवन जीना सिखाती है और धर्म के प्रति हमारी आस्था संस्कृति से जोड़ने का काम करती है। उन्होंने कहा कि हमें हमेशा अपने साथ साथ दूसरों के लिए भी जीना चाहिए क्योंकि “मैं“, जीवन में हमें अकेला और सूनापन देता है जबकि हम में पूरा संसार समाहित है।
मनोज तिवारी ने कहा कि श्रीमद्भागवत कथा में सार्थक जीवन का साक्षात दर्शन हमें मिलता है इसलिए हम सब कथा का सिर्फ श्रवण न करें इसे अपने जीवन में भी उतारें इसमें त्याग तपस्या और बलिदान का संदेश समाहित है, जिसके अनुसरण से ना सिर्फ हमें देश और समाज के प्रति समर्पण की प्रेरणा मिलती है बल्कि यश और कीर्ति के साथ-साथ संसार में राष्ट्र चेतना और हृदय में आत्मबल उत्पन्न होता है।
अपने प्रवचन मे श्री कौशिक जी महाराज ने कहा कि प्राकृतिक धरोहर भगवान का वरदान है हमें उसकी रक्षा करनी चाहिए क्योंकि प्रकृति में हर वह औषधीय गुण हैं जो कई व्याधियों से हमारे जीवन की रक्षा करते है। उन्होंने कहा कि हमारे जीवन की गाड़ी न रुके उसके लिए वृक्षों से हमें प्राणवायु मिलती है जिसके लिए पर्यावरण की रक्षा जरूरी है और पर्यावरण की रक्षा के अधिक पेड़ लगाना जरूरी है क्योंकि हर वृक्ष की लकड़ी मे कुछ न कुछ विशेषता होती है जिसका हमारे जन्म से मृत्यु तक महत्व है।
इस अवसर पर पूर्वी दिल्ली नगर निगम के महापौर श्री बिपिन बिहारी सिंह, जिला अध्यक्ष श्री अजय महावर, शिक्षा समित के अध्यक्ष राजकुमार बल्लन, निगम पार्षद प्रवेश शर्मा, श्रीमती कुसुम तोमर, ओबीसी मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष डा. यू के चैधरी, पूर्व निगम पार्षद चै. महक सिह, मीडिया विभाग के प्रदेश सहप्रमुख आनंद त्रिवेदी, सांसद प्रतिनिधि राम नरेश पाराशर, महिला मोर्चा जिला अध्यक्ष श्रीमती मनी बंसल सहित कई गणमान्य लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *