ताजा ख़बर

सड़कें होंगी जाम फ्री, अब ई-रिक्शा में लेंगेगे GPS

नई दिल्ली। मेट्रो स्टेशन के पास स्थित सड़कों पर ई-रिक्शा के चलते रोजाना भयंकर जाम की समस्या से अब लोगों को और अधिक दिनों तक परेशानी नहीं होगी। मेट्रो स्टेशनों पर खड़े ई-रिक्शा की गतिविधियों पर जीपीएस (ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम) से नजर रखी जाएगी। पहले चरण में लाजपत नगर मेट्रो स्टेशन से सेंट्रल मार्केट के बीच चलने वाले 12 ई-रिक्शा में जीपीएस लगाया जाएगा। जीपीएस लगाने का खर्च ई-रिक्शा ड्राइवर को ही वहन करना होगा। जीपीएस का कंट्रोल ट्रैफिक पुलिस के पास होगा। ई-रिक्शा वालों के लिए डेडिकेटिड रूट प्लान भी तैयार किया जाएगा और उन्हें हर हाल में रूट प्लान को फॉलो करना होगा। अगर वे ऐसा नहीं करते हैं, तो ट्रैफिक पुलिस उनके खिलाफ जुर्माना भी लगा सकती है। जुर्माना राशि अभी तय नहीं की गई है।
साउथ एमसीडी के एक सीनियर अफसर के अनुसार दिल्ली में स्थित जितने भी मेट्रो स्टेशन हैं, वहां से आसपास की कॉलोनियों और मार्केट में जाने के लिए ई – रिक्शा की सुविधा है। लेकिन, अब इनकी संख्या इतनी अधिक हो गई है कि इससे मेट्रो स्टेशन के आसपास स्थित सड़कों पर जाम की समस्या बढ़ गई हैं। लोगों को परेशानी होने लगी है, इसलिए ई-रिक्शा की गतिविधियों को मॉनिटर करने के लिए उनमें जीपीएस लगाने का प्लान बनाया गया है। इस संबंध में बुधवार को गृह मंत्रालय के होम सेक्रटरी की अध्यक्षता में एक मीटिंग भी बुलाई गई थी। पहले चरण में लाजपत नगर मेट्रो स्टेशन से सेंट्रल मार्केट के बीच चलने वाले ई-रिक्शा में जीपीएस लगाया जाएगा। दूसरे और तीसरे चरण में इस मेट्रो स्टेशन से आसपास की कॉलोनियों मे जाने वाले ई-रिक्शा में भी जीपीएस लगाए जाएंगे।
ई-रिक्शा के संचालन के लिए मेट्रो स्टेशन से रूट भी तय किया जाएगा। पहले चरण में जिन 12 ई-रिक्शा में जीपीएस लगाए जा रहे हैं, उनके लिए तीन रूट तय किए गए हैं। पहला रूट वीर सावरकर मार्ग, दूसरा रूट फिरोज गांधी रोड और तीसरा रूट शिव मंदिर रोड है। इन तीनों के अलावा ई-रिक्शा ड्राइवर को अन्य किसी रोड पर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। दूसरे फेज में बाकी कॉलोनियों को कनेक्ट करने के लिए इसी तरह से ई-रिक्शा के लिए रूट तय किए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *