ताजा ख़बर

सेंट मारग्रेट स्कूल में धरती दिवस और अलंकरण समारोह का भव्य आयोजन

नई दिल्ली। सेंट मारग्रेट स्कूल, प्रशांत विहार के छात्रों ने ‘धरती दिवस’ के अवसर पर विशेष कार्यक्रम प्रस्तुत किया। मानव के बढ़ते स्वार्थ और लालच के कारण प्रकृति का सौन्दर्य लुप्त हो रहा है। पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है तथा धरती जल रही है। आज पूरे विश्व के सामने वायुमंडलीय उष्णता एक चुनौती के रूप में खड़ी हैं। हम सबको मिलजुल पर्यावरण निवारण हेतु सजग कदम उठाने हैं और धरती को हरा-भरा व स्वस्थ बनाना हैं। सेंट मारग्रेट स्कूल के छात्रों ने इस गंभीर समस्या पर अपने भाव और विचार प्रकट किए।
चेयरमैन बी.आर.गोस्वामी, मैनेजिंग डायरेक्टर नवीन गोस्वामी तथा प्रधानाचार्या श्रीमती रेनू जैन तथा आमंत्रित अभिभावकों के आगमन पर कार्यक्रम का आरंभ किया गया।
सर्वप्रथम भगवान शिव की उपासना के माध्यम से छात्रों ने अपना भक्ति-भाव प्रकट किया तथा ईश्वर के साथ प्रकृति के संबंधों को दर्शाया। समूह गान की प्रस्तुति द्वारा धरती की करुण पुकार मार्मिक थी। रंगारंग नृत्य ने सभी का मन मोह लिया। धरती की रक्षा व सुरक्षा हेतु मानव द्वारा किए जाने वाले प्रयासों के विषय में बच्चों ने नाटक, चरित्र मंचन प्रस्तुत किया तथा भविष्य में इस ओर सतर्क रहने की प्रेरणा दी। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के प्रति दिल्ली वालों को जागरूकता प्रदान की और पानी के मूल्य तथा संरक्षण की दिशा में सख्त कदम उठाने की सलाह दी।
चेयरमैन ने सभा को संबोधित करते हुए धरती को सुंदर और स्वस्थ बनाने की बात कर ते हुए कहा कि मनुष्य और प्रकृति के आत्मीय संबंध ही धरती पर खुशहाल जीवन के लिए जरुरी हैं। उन्होंने वातावरण की स्वच्छता के प्रति छात्रों के कार्यों की सराहना की।
इस सुअवसर पर प्रबंधकीय सदस्यों ने ‘अलंकरण समारोह’ के अंतर्गत सभी हाउस यथा रोज, लिली, लोटस, सनफ्लावर के छात्रों को विभिन्न दायित्वों के संबंध में बताते हुए अलग-अलग बैज से अलंकृत किया गया। सभी हाउस के प्रभारियों के द्वारा अपने हाउस के मुख्य छात्रों को ध्वज प्रदान करते हुए उन्हें जिम्मेदारी सौंपी गई।
प्रधानाचार्या श्रीमती रेनू जैन द्वारा छात्रों को विद्यालय के प्रति निष्ठा व समर्पण की शपथ दिलवाई गई। हेड बॉय और हेड गर्ल ने विद्यालय के प्रति निष्ठावान रहने की कसम खाई। मैनेजिंग डायरेक्टर नवीन गोस्वामी द्वारा कार्यक्रम की सराहना की। उन्होंने छात्रों का उत्साहवर्धन करते हुए भाषण देते हुए कहा कि हमें अपने अधिकारों के साथ-साथ कर्तव्यों का बोध हो जाए तो हमारा भविष्य उज्ज्वल और सुनहरा होगा तथा साथ ही में स्वस्थ व सुंदर समाज हेतु स्वच्छता तथा सतर्कता पर बल देने को कहा। अंत में आभार शब्दों के साथ कार्यक्रम समाप्त हुआ।
आइए हम मिलकर यह निश्चय करें कि
हम देश को सुंदर व स्वस्थ बनाएंगे
अपने कर्तव्यों को अपना लक्ष्य बनाएंगे।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *