दिल्ली के मुख्यमंत्री की गुंडागर्दी नहीं चलने देंगे : मनोज तिवारी

नगर संवाददाता
नई दिल्ली। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी आज दिल्ली सरकार के खिलाफ धरना-प्रदर्शन कर रहे डीटीसी कर्मचारियों की मांग समान काम, समान वेतन एवं डीटीसी के 8 निलम्बित कर्मचारियों को तुरन्त बहाल करवाने का समर्थन करने के लिए उनके बीच पहुंचे। इस अवसर पर विधायक कपिल मिश्रा, मीडिया सह-प्रभारी नीलकांत बक्शी, मीडिया प्रमुख अशोक गोयल देवराहा उपस्थित थे।
मनोज तिवारी ने कहा कि आप सभी कर्मचारी की पीड़ा और संकट जो चार दिनों से भुगत रहे हैं, भाजपा आपके साथ है। मैं आप सभी को विश्वास दिलाता हूँ कि दिल्ली की कोई भी ताकत आपकी मांगों को नहीं रोक सकती है। आप सभी की मांग समान काम, समान वेतन का हम समर्थन करते हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अपने पद का दुरूपयोग कर रहे हैं और जिस धरने प्रदर्शन के कारण आज वो सत्ता में हैं उन्हीं लोगों पर आज अत्याचार हो रहा है, यह कैसा न्याय है ? उन्होंने कहा कि ये डीटीसी के 8 कर्मचारियों का टर्मिनेशन नहीं, ये केजरीवाल सरकार के टर्मिनेशन की शुरूआत है और धरना देने वाले धरने से डरने लगे, किये हुये वादों से मुकरने लगे।
श्री तिवारी ने कहा है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री की आज ही कोर्ट से जमानत हुई है, उन्हें बेल पर छोड़ा गया है और केस भी गुंडागर्दी और मारपीट का है। केजरीवाल की तुलना रावण से करते हुये उन्होंने कहा कि रावण को अभिमान था, उसकी नाभी में अमृत कलश था जिसके खत्म होने के बाद उसका अंत हुआ। इसी प्रकार मुख्यमंत्री ने जो आठ लोगों को निलम्बित किया है ये 8 वाण के रूप में रावण रूपी केजरीवाल का अंत करेंगे। बेल पर बाहर दिल्ली के मुख्यमंत्री हवाला की घास चर रहे हैं और डीटीसी के कर्मचारी उनके पर कतरने लगे हैं।
श्री तिवारी ने धरने पर बैठे डीटीसी कर्मचारियों से पूछा कि दिल्ली में सत्ता में आने से पहले मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के समय 2015 में डीटीसी के बेड़े में कितनी बसें थी तो श्री बाल्मीकि झा, श्री मनोज शर्मा, मनोज कुमार, ललित कुमार, अमित भाटी, देव खारी, राजेश कुमार एवं गिरीराज गिरी ने बताया कि 2015 में 8000 बसें डीटीसी की सड़कों पर दौड़ रही थीं लेकिन अब 2018 में केवल 3800 बसें ही सार्वजनिक यातायात के लिए दिल्ली की जनता को सेवा दे पा रही हैं। यह सुनने के बाद श्री तिवारी ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री का तो हाजमा बहुत ही अच्छा है कि लगभग तीन सालों में 4200 बसें डकार गये।
दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री ने मेट्रो टेªन के विस्तार के चैथे फेज को रोक कर, सफाई कर्मचारियों का वेतन रोक कर, एमसीडी के फंड रोक कर और अब डीटीसी के कर्मचारियों को स्थायी न करके एक भी अपने चुनावी वायदे को पूरा नहीं किया। दिल्ली भाजपा यह मांग करती है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री तुरन्त सभी 8 निलम्बित कर्मचारियों को बहाल किया जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *