उत्तरी निगम द्वारा विश्व मधुमेह दिवस पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित

नगर संवाददाता
नई दिल्ली । उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने विश्व मधुमेह दिवस के अवसर पर हिंदू राव अस्पताल के एमएन पासी सभागार में आज तीन दिवसीय मधुमेह जागरूकता कार्यक्रम का शुभारंभ किया ।
इस कार्यक्रम का मकसद आम लोगों में स्वास्थ्य विशेषज्ञों के द्वार मधुमेह को लेकर जानकारी बांटना है। मधुमेह को कैसे नियंत्रित किया जा सकता है और इससे बचने के लिए किस तरह की जीवनशैली अपनाने की जरूरत है।
इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि, नीति आयोग के सदस्य, डॉ. विनोद के. पॉल, ने कहा की मधुमेह से केवल भारत ही नहीं लगभग पूरी दुनिया इस से ग्रस्त है। उन्होनें कहा की आज भारत दुनिया में मधुमेह की राजधानी बन गया है जो की एक बहुत बड़ी समस्या है। उन्होंने बताया कि भारत में लगभग हर 5 लोगों में से एक मधुमेह से पीड़ित है और सबसे डरावना तथ्य यह है कि मधुमेह से पीड़ित लगभग 80 प्रतिशत लोग इससे अनजान हैं जिस की वजह से अधिकतर बड़े नुकसान का सामना करना पड़ता है। उन्होनें कहा की आज समय की आवश्यकता यह है की हमें बच्चों को भी मधुमेह के बारे में शिक्षित करना होगा जिस से की वह एक स्वस्थ जीवन शैली अपना सके।
उत्तरी दिल्ली के महापौर, श्री आदेश गुप्ता ने कहा की दिल्ली जैसे महानगरों में मधुमेह से व्यापक संख्या में लोग पीड़ित है, इसलिए हम सभी के लिए आवश्यक हो जाता है कि हम इस के लक्षणों के बारे में जागरूकता हासिल करे ताकि प्रारंभिक चरण मे ही हम इस बीमारी का पता लगा सके और इस के अनुरूप अपनी जीवन शैली में बदलाव ला सके।
स्थायी समिति की अध्यक्ष, सुश्री वीना विरमानी ने इस कार्यक्रम को आयोजित करने के लिए हिंदू राव अस्पताल टीम और उत्तरी दिल्ली नगर निगम को बधाई दी। उन्होनें कहा की मधुमेह सिर्फ एक बीमारी ही नहीं है बल्कि बहुत सी बीमारियों की जड़ है। उन्होनें कहा की यदि यह बीमारी अनियंत्रित हो जाए तो पूरे शरीर को प्रभावित कर सकती है जिस की वजह से हमारे अंग भी विफल हो सकते है। उन्होनें लोगों से अपील की कि वे अपने प्रियजनों का ख्याल रखें और उनका नियमित रूप से परीक्षण / जांच करवाए।
निगमायुक्त मधुप व्यास ने बताया की निगम नागरिको को मधुमेह का पता लगाने के लिए अपने सभी स्वास्थ केंद्रो पर मुफ्त मधुमेह शिविर आयोजित करेगी। जिस्से की बीमारी के लक्षणो का जल्द पता लग सके और दीर्घकालिक उपचार मिल सके। मुख्य सलाहकार डॉ डी के सेठ ने मधुमेह से पीड़ित लोग को इस के उपचार और मधुमेह को रोकने के उपाय बताए। उन्होनें बताया की हर किसी को मीठे कार्बोनेटेड पेय और भोजन में परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट के अधिक सेवन में सावधानी बरतनी चाहिए। इसके विपरीत, उच्च फाइबर आहार और पारंपरिक चाय और कॉफी पेय का सेवन करना चाहिए।
उन्होंने यह भी बताया कि हमे कम से कम किसी भी प्रकार की एक कसरत को अपनी जीवनशैली में अपनाना चाहिए। चिकित्सा सहायता व जन स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष विनीत वोहरा, मलेरिया रोधी समिति की अध्यक्षा, सुश्री उर्मिला चौधरी, स्थायी समिति के सदस्य नीरज गुप्ता, रमेश कुमार, पार्षद, सुश्री मंजू खंडेलवाल अतिरिक्त आयुक्त जयराज नायक और विभिन्न स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने भीइस कार्यक्रम में हिस्सा लिया । निगम के कस्तूरबा अस्पताल में भी इस तरह का कार्यक्रम आयोजित किया गया ताकि लोगो को जागरूक किया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *