दिल्ली भाजपा पूर्वांचल मोर्चे के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री निवास के बाहर सूर्य आराधना की

नगर संवाददाता
नई दिल्ली। दिल्ली भाजपा के पूर्वांचल मोर्चे के पदाधिकारियों का एक प्रतिनिधि मंडल आज प्रातः अध्यक्ष श्री मनीष सिंह के नेतृत्व में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मिल कर छठ पर्व पर दिल्ली सरकार के फंड से शालीमार बाग क्षेत्र में लगाये गये छठ पूजा मंच पर स्थानीय विधायक सुश्री बंदना वाजपेयी की उपस्थिति में हुऐ अशोभनीय नाच गाने पर विरोध दर्ज कराने के लिये उनके आवास पर पहुँचा किन्तु मुख्यमंत्री आवास/कार्यालय ने मिलवाने से इन्कार कर दिया।
जिसके उपरान्त पूर्वांचल मोर्चा पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री आवास के बाहर शालीमार बाग छठ पूजा मंच पर अशोभनीय नृत्य के द्वारा भगवान सूर्य नारायण की पूजा मर्यादा भंग किये जाने के लिये क्षमा स्वरूप सूर्य नारायण की आराधना की।
पूर्वांचल मोर्चा कार्यकर्ताओं ने आम आदमी पार्टी विधायक सुश्री बंदना वाजपेयी एवं उनके कार्यकर्ताओं के द्वारा छठ पर्व की मर्यादा भंग किये जाने के विरोध में नारे भी लगाये।
मोर्चा अध्यक्ष मनीष सिंह ने मुख्यमंत्री के कार्यालय को एक विरोध पत्र देकर सरकारी फंड के सहयोग से आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा लगाये गये छठ पूजा मंच पर स्थानिय विधायक सुश्री बंदना वाजपेयी की उपस्थिति में हुए शोभनीय नाच गाने से दिल्ली के पूर्वांचली समाज एवं अन्य लोगों की आहत धार्मिक भावनाओं की ओर उनका ध्यान आकृष्ट करते हुऐ इसके लिये विधायक की लापरवाही को दोषी ठहराया है।
दिल्ली भाजपा के पूर्वांचल मोर्चे ने मुख्यमंत्री से मांग की है की सरकार ऐसे नियम बनाये कि भविष्य में सरकारी फंड के सहयोग से लगने वाले छठ पूजा मंचों पर ऐसा कोई नाच गाना या अन्य कृत्य ना हो जिससे लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत हों।
प्रतिनिधिमंडल में शामिल कार्यकर्ताओं में प्रमुख थे पूर्व उप महापौर विजय भगत, पार्षद श्रीमती रेखा सिन्हा, मोर्चा पदाधिकारी सर्वश्री बी.एन. झा, प्रेमकांत चैधरी, मनीष चैधरी, शरद झा, अमरेन्द्र सिंह, अजय सिंह, मनीष कुमार, संजय झा, अनन्त राम यादव, संगम तिवारी, जगत नारयण गुप्ता आदि।
मनीष सिंह ने कहा है हम छठ पूजा को लेकर कोई राजनीतिक विवाद नहीं करना चाहते, इस लिये केवल मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को साथ लेकर भगवान सूर्य नारायण से आम आदमी पार्टी विधायक आदि द्वारा की गयी अशोभनियता के लिये क्षमा प्रार्थना करना चाहते थे और इसी लिये सूर्य की पहली किरणों के बीच मुख्यमंत्री आवास आये थे। मुख्यमंत्री आवास कर्मियों के द्वारा मुख्यमंत्री से न मिलवाने पर बाध्य हो कर हमने स्वंय ही सूर्य नारायण की आराधना की और आवास कर्मियों को अपना मांग पत्र सौंपा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *