शहीद का दर्जा देने की मांग को लेकर देशभर में आंदोलन करेगा नेशनल अकाली दल : पम्मा

नगर संवाददाता
नई दिल्ली। आजादी के मतवाले भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, राजगुरु, सुखदेव को शहीद का दर्जा देने की मांग को लेकर एंग्री मैन का खिताब पा चुके व नेशलन अकाली दल के अध्यक्ष परमजीत सिंह पम्मा की ओर से जंतर मंतर से लेकर पार्लिमेंट स्ट्रीट तक क्रांति मार्च का आयोजन किया गया। मार्च में काफी संख्या में कलाकार, समाजसेवी व महिलाओं और बच्चे शामिल थे जो कि तिरंगे झंडों के साथ-साथ आजादी के मतवालों की फोटो लेकर इंकलाब जिंदाबाद, भारत माता की जय, आजादी के मतवालों को शहीद का दर्जा दो के नारे लगा रहे थे और शहीदी का दर्जा देने की मांग करते हुए क्रांति मार्च जंतर-मंतर से पार्लिमेंट स्ट्रीट की ओर बढऩे लगा।
इस अवसर पर पंजाबी पॉप सिंगर आशु पंजाबी, इंटरनेशनल गायक पंकज जसवानी, सिंगर एवं आर जे कौर ने देश भक्ति के गीत गाकर आजादी के मतवालों को शहीदी का दर्जा देने की मांग की।
परमजीत सिंह पम्मा ने कहा कि बड़े शर्म की बात है कि 72 साल आजादी के होने के बावजूद भी जो आजादी दिलाने के नायक हैं उन को शहीद का दर्जा नहीं दिया गया।
श्री पम्मा ने कहा कि शहीद भगत सिंह युवाओं के एक आदर्श हैं, जिन्होंने अपनी जान की परवाह न करके इस देश की आजादी के लिए खुद फांसी पर चढ़ गए। उन्होंने कहा इतने समय में काफी सरकारें तो बदली पर व्यवस्था वही की वही रही।
परमजीत सिंह पम्मा ने कहा है कि हमारा फर्ज बनता है जिन्होंने देश के लिए कुर्बानी दी है उनको हमेशा याद रखें। सरकार को चाहिए कि 26 जनवरी के उपलक्ष पर इन्हें शहीद का दर्जे की घोषणा की जाए और स्कूलों में भी बच्चों को इनका इतिहास पढ़ाया जाए जिस से आने वाले समय में हमारे बच्चों में भी देश भक्ति की भावना जागे।
परमजीत सिंह पम्मा व दलजीत सिंह चग्गर ने सरकार से मांग की कि शहीद भगत सिंह को राष्ट्रीय पुत्र का दर्जा भी देना चाहिए।
श्री सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के चेयरमैन मनोहर लाल कुमार ने कहा कि अभी तक आजादी के मतवालों को शहीद का दर्जा ना मिलना हमारे लिए बड़े दुख की बात है। कोई भी नेता चाहे वह निगम पार्षद हो विधायक हो या और भी किसी संस्था से हो या पूर्व भी हो उसको दूसरी राज्य पर जाने पर सरकारी तौर पर कई सुविधाएं दी जाती है, मगर शहीद के परिवार को किसी प्रकार की भी कोई सुविधा नहीं दी जाती।
राकेश यादव ने कहा बड़े दुख की बात के ऐसे नायकों को सरकारें उनके जन्मदिवस व शहीदी के दिन पर भी याद करती हैं जब उनको या उनके परिवार को कुछ देने की बात आती है तो अनदेखा कर देती हैं।
इस अवसर पर अवनीत कौर व बिंदिया मल्होत्रा ने कहा हम सबको अपनी राजनीति भूलकर इन लोगों को शहीद का दर्जा दिलाना चाहिए जिन्होंने हमें आजादी दिलाने के लिए अपनी जान की परवाह नहीं कि उनके लिए अगर हम कुछ भी कर पाए तो अपने आप को भाग्यशाली समझेंगे।
शहीद भगत सिंह सोशल वेलफेयर सोसायटी रजि.के चेयरमैन इन्द्रजीत सिंह आश्ट, बाबा बुढ़ा साहिब लंगर सेवा सोसायटी के मीडिया सैक्रेटरी ईश्वर सिंह पनेसर, फ्रिडम फाइटर स.अमर सिंह सब्बरवाल, मेमोरियल फाउंडेशन .रजि.के चेयरमैन पलविंदर सिंह सब्बरवाल, शहीद भगत सिंह मेमोरियल एसोसिएशन रजि.के जनरल सैक्रेटरी जसविंदर सिंह सब्बरवाल, सरकार को जल्द से जल्द भगत सिंह को राष्ट्रीय पुत्र का दर्जा देना चाहिए वे युवकों के आदर्श रहे हैं अगर ऐसा ना किया गया तो उनका आंदोलन जारी रहेगा। इस अवसर पर सदर बाजार फेडरेशन, मुकेश, सरबजीत कौर, महिला पृगति की चेयरमैन श्रीमती उषा निष्चल, नेशनल अकाली दल के सचिव बलजीत सिंह सरना, बलविंदर सिंह सरना, जसवीर सिंह बेदी, मनजीत सिंह, विष्णु गार्डन गुरु अमृत कमलजीत सिंह, सौरभ कला संगम अध्यक्ष के सतपाल मलहोत्रा, मोबिन भाई ने एकजुट होकर शहीदी का दर्जा देने की मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *