केजरीवाल झूठ का दुष्प्रचार कर दिल्ली की जनता को गुमराह कर रहे है : आदेश गुप्ता

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश कार्यालय पर आज तीनों नगर निगमों के महापौर आदेश गुप्ता, बिपिन बिहारी सिंह, नरेन्द्र चावला ने केजरीवाल सरकार के 70 वायदे 74 झूठ के अलावा एक नया झूठ जिसके अनुसार करोल बाग स्थित मौहल्ला क्लीनिक को उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने तुड़वाया है ऐसा झूठा प्रचार मीडिया व सोशल मिडिया पर करने को लेकर संयुक्त प्रेस वार्ता की। इस प्रेस वार्ता में दिल्ली प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव बब्बर एवं प्रदेश मीडिया प्रमुख अशोक गोयल देवराहा उपस्थित थे।
पत्रकारों को सम्बोधित करते हुये उत्तरी दिल्ली के महापौर आदेश गुप्ता ने कहा कि दिल्ली में केजरीवाल झूठ का दुष्प्रचार कर दिल्ली की जनता को गुमराह कर रहे है वो भी ऐसे समय में जब दिल्ली में चुनावों को लेकर आदर्श आचार संहिता लागू है। केजरीवाल का मीडिया व सोशल मीडिया पर झूठा दुष्प्रचार करना कि करोल बाग स्थित दिल्ली सरकार का मौहल्ला क्लीनिक उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने गिराया है एक दम तथ्यविहिन, बेबुनियाद और सफेद झूठ है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम केजरीवाल से इस बात का सबूत मांगता है कि वो किस आधार पर कह रहे है कि मौहल्ला क्लीनिक निगम ने तोड़ा है। दिल्ली की जनता से किये चुनावी वायदे केजरीवाल पूरे कर नहीं पाये और हर दिन नया झूठ बोलकर वो दिल्ली की जनता को गुमराह कर रहे है। पी.डब्लू.डी का स्पष्ट निर्देंश है कि जहां पर भी 60 फुट या उससे अधिक चैड़ी सड़क होगी वहां पर मौहाल्ला क्लीनिक के लिए ट्रेफिक पुलिस और नगर निगम से अनुमति लेनी होती है। केजरीवाल के मीडिया सलाहकार नागेन्द्र शर्मा सरकार से वेतन लेते है और नौकरी आम आदमी पार्टी के झूठ को सोशल मिडिया पर फैला कर करते है इसकी जांच होनी चाहिए। नगर निगम के फंड को केजरीवाल जानबूझ कर रोक देते है जिसके कारण निगम तंगहाल है और सफाई कर्मीयों के वेतन,पेंशन और एरियर देने में असमर्थ है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार द्वारा पांचवे दिल्ली वित्त आयोग में ग्लोबल टैक्स के साथ प्लान हेड मिला देने के कारण उत्तरी दिल्ली नगर निगम को सालाना 500 करोड़ रूपये से ज्यादा का नुकसान हुआ है जिसके कारण दिल्ली की जनता उन्हें माफ नहीं करेगी और लोकसभा चुनाव में सातों सीटों पर भाजपा को जिताकर अरविन्द केजरीवाल को सबक सिखायेगी।
दक्षिणी दिल्ली के महापौर नरेन्द्र चावला ने कहा कि केजरीवाल को दिल्ली की जनता ने 70 में 67 सीटें देकर सत्ता में बिठाया लेकिन केजरीवाल दिल्ली को बीमार करना चाहते है। तीसरे , चैथे और पांचवे वित्त आयोग के तहत केजरीवाल ने दक्षिणी दिल्ली को जो फंड देना था वो पर्याप्त फंड नहीं दिया जिसके कारण दक्षिणी दिल्ली सफाई कर्मीयों का वेतन स्कूलों में मीड-डे मील व नये स्कूल बनाने में असमर्थ हुआ है। केजरीवाल दिल्ली की जनता से निगम में हुई अपनी हार का बदला निगमों के फंड रोककर ले रहे है। न्यायालय से केस लड़कर मुख्यमंत्री से फंड लेना पड़ रहा है लेकिन केजरीवाल न्यायालय के आदेश के बावजूद निगम को पूरा फंड नहीं देते है। निगमों को पैसा मुख्यमंत्री को देना है लेकिन केजरीवाल अपने उत्तरदायित्व से भागने का प्रयास कर रहे है।
पूर्वी दिल्ली के महापौर श्री बिपिन बिहारी सिंह ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल से न्यायालय के आदेश के बाद फंड हासिल करने में सफलता हासिल हुई जिसके कारण सफाई कर्मीयों की तीन-चार महीनों से पड़ी पेन्डिग सैलरी दे पाये। केजरीवाल दिल्ली की जनता को गुमराह करने के लिए पूर्ण राज्य का राग अलाप रहे है। दिल्ली की जनता से केजरीवाल दावा करते है कि साढ़े चार साल में इतने काम हुये जो 70 सालों में नहीं हुये लेकिन सच्चाई इसके विपरीत है केजरीवाल निगमों के फंड को रोकर दिल्ली की निगम व्यवस्था को ठप्प करना चाहते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »