सिविक सेंटर में आयोजित स्वास्थ्य जांच शिविर में सफाई कर्मचारियों की स्वास्थ्य जाँच की

नई दिल्ली। राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग, भारत सरकार के अध्यक्ष मनहर वालजीभाई जाला और उत्तरी दिल्ली के महापौर अवतार सिंह ने आज सफाई कर्मचारियों के लिए जागरूकता-सह-स्वास्थ्य जांच शिविर का उद्घाटन डॉ एस.पी.एम. सिविक सेंटर के केदारनाथ साहनी सभागार में किया इस के साथ ही सफाई कर्मचारियों को उतरदायित्व के निवर्हन में उत्कृष्ट योगदान के लिए पुरस्कार भी वितरित किए गए । राष्ट्रीय सफाई आयोग के सहयोग से उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा सफाई कर्मचारियों के लिए जागरूकता-सह-स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन किया गया था।

सफाई कर्मचारियों को जागरूक करने के लिए मैनुअल स्कैवेंजिंग अधिनियम 2013 का विवरण, मैनुअल स्कैवेंजर्स के लिए सुरक्षा उपायो के बारे में ‘बोधिशाला’ से आए दीपक त्यागी ने समझाया । राष्ट्रीय कौशल विकास निगम से सुश्री पल्लवी सुप्रिया ने सरकार के कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम, प्रधान मंत्री कौशल विकास योजना, आदि जैसी  योजनाओं के बारे में जानकारी दी। राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी महासंघ विकास निगम से वी.के. गुप्ता ने सफाई कर्मचारियों के लिए विभिन्न योजनाओं और स्वरोजगार परियोजनाओं के बारे में जानकारी दी और उन्होंने सफाईकर्मचारियों के आश्रितों के लिए भी विभिन्न योजनाओं के बारे में भी बताया। आयोजन के दौरान सफाई कर्मचारीयों को केंद्र / राज्य की विभिन्न  कल्याणकारी योजनाओं जैसे बीमा, उनके अधिकारों और कर्तव्यों, विभागीय श्रम दिशानिर्देशों और विभिन्न संबंधित एजेंसियों के लिए सफाई कर्मचारी बीमा निगम (ईएसआईसी), ईपीएफ आदि के बारे में जानकारी दी गई।

इस आयोजन का उद्देश्य सफाईकर्मियों को उनके अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में बताना था, राज्य / केंद्र सरकारों द्वारा चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के अलावा उनकी स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों की जानकारी देना था ताकि उन्हें जल्दी पता चल सके और 100% इलाज हो सके ।

एनसीएसके के अध्यक्ष मनहर वाल्जीभाई जाला ने कहा कि इस तरह के आयोजन एंव स्वास्थ्य शिविर सफाई कर्मचारी के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि उन्हें कभी भी अपने स्वास्थ्य या अन्य व्यक्तिगत मुद्दे के लिए समय नहीं मिलता है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार और एनसीएसके सफाई कर्मचारी के लिए काम कर रहे हैं ताकि उन्हें जानकारी प्रदान की जा सके चूकिं जानकारी के अभाव में सफाई कर्मचारियों को सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता है। उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छता के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की और हमें पूरे भारत में सकारात्मक परिणाम मिल रहे हैं और यह सिर्फ सफाईकर्मियों की वजह से संभव हुआ। उन्होंने आगे कहा कि लोगों की औसत आयु 75-80 वर्ष हो गई है, लेकिन एक सफाई कर्मचारी की औसत आयु 55 वर्ष है, इसीलिए सफाईकर्मचारियों के लिए ऐसी कार्यशालाओं / कार्यक्रमों का आयोजन कर उन्हें जानकारी प्रदान करना या उन्हें जागरूक करना बहुत महत्वपूर्ण है।

उत्तरी दिल्ली के महापौर श्री अवतार सिंह ने कहा कि उत्तरी दिल्ली के महापौर बनने के बाद मुझे हमारे माननीय प्रधान मंत्री, श्री नरेंद्र मोदी से मिलने का मौका मिला,उन्होंने मुझे समझाया कि हमारा उद्देश्य स्पष्ट होना चाहिए कि हमें गरीब लोग के लिए काम करना है । उन्होंने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम आर्थिक तंगी से गुजर रही है लेकिन हम अपने सभी उद्देश्यों को हासिल करेंगे।

उन्होंने अधिकारियों से उत्तरी दिल्ली नगर निगम के सभी 104 वार्डों में सफाईकर्मियों के लिए शेल्टर बनाने और पुनर्निर्माण करने के निर्देश दिए।

इस अवसर पर स्थायी समिति के अध्यक्ष जय प्रकाश ने सफाई कर्मियों के लिए इस तरह के आयोजन के लिए उत्तरी दिल्ली नगर निगम और एनसीएसके को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही एकमात्र व्यक्ति हैं जो सफ़ाईकर्मचारियों के कल्याण के बारे में सोचते हैं। उन्होंने कहा कि आज सरकार भारत में लोगों को जीवन सुरक्षा प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना जैसी विभिन्न योजनाएँ चलाई जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक सुबह हम अपनी सड़कों और गलियों को साफ-सुथरा पाते हैं क्योंकि सफाई कर्मचारी ने अपना काम पूरा किया है।

सुश्री इरा सिंघल, निदेशक सामुदायिक सेवा विभाग ने इस अवसर पर बताया की कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के अधिकार क्षेत्र में सफाई कर्मचारी के छोटे बच्चों के लिए लगभग 10-12 क्रेच / डे केयर सेंटर खोले जाएगे। निगम के कर्मचारियों के लिए विशेष रूप से सफाई कर्मचारियों के लिए परामर्श केंद्र व्यक्तिगत या मनोवैज्ञानिक जैसे तनाव, अवसाद आदि के मामले में उन्हें परामर्श देने के लिए खोले जाएगे, यह नि: शुल्क होगा। इस के साथ ही उत्साहवर्धन के लिए सफाई कर्मचारियों के बीच अंतर क्षेत्र खेल प्रतियोगिता करवाई जाएगी।

आयोजन के मुख्य अतिथि मनहर वाल्जीभाई जाला एंव आयुक्त सुक्षी वर्षा जोशी ने सराहनीय कार्य के लिए 27 सफाई कर्मचारियों को सम्मानित किया। स्वास्थ्य जांच शिविर में विभिन्न बीमारियों के लिए लगभग 1000 सफाईकर्मियों की जाँच की गई।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने क्षेत्र में सफाई व्यवस्था का मजबूत करने के लिए क्षेत्र के अनुसार स्वच्छता के मानकों अनुरूप छह क्षेत्रों में अगस्त 2019 के महीने से 25101 सफाई कर्मचारियों को प्रशिक्षण देना निर्णय लिया है। जिसका विवरण भी इस अवसर पर वितरित किया गया।

इस अवसर पर एनसीएसके की सदस्य सुश्री मंजू, उप महापौर योगेश वर्मा, सदन के नेता तिलक राज कटारिया, आयुक्त सुश्री जोशी, अति. आयुक्त सुश्री निधि श्रीवास्तव, जय राज नाइक,  आरएस मीणा और निगम के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। अध्यक्ष पर्यावरण प्रबंधन सेवा समिति राजा इकबाल सिंह ने आयोजन की अध्यक्षता की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »