कोरोना के हॉट-स्पॉट बने जगजीवन, अंबेडकर और मैक्स, इन तीन अस्पतालों में ही 168 स्वास्थ्यकर्मी पॉजिटिव

नई दिल्ली। दिल्ली के कई अस्पतालों में कंटेनमेंट जोन के हालात बन गए हैं। यहां बड़ी तादाद में स्वास्थ्यकर्मियों में कोरोना का इंफेक्शन हो रहा है। सरकार के बाबू जगजीवन और अांबेडकर ऐसे अस्पतालों में शुमार हो गए हैं जहां कोरोना पॉजिटिव स्वास्थ्यकर्मियों की तादाद 50 और इससे ज्यादा है। एक प्राइवेट अस्पताल में भी बड़ी तादाद में कोरोना पॉजिटिव स्वास्थ्यकर्मी आ चुके हैं। नॉर्थ दिल्ली के जहांगीरपुरी स्थित बाबू जगजीवन अस्पताल में कोरोना पॉजिटिव स्वास्थ्यकर्मियों की तादाद 80 पहुंच गई है। इसमें डॉक्टरों की तादाद 15 है। वहीं आंबेडकर अस्पताल में इंफेक्टिड की संख्या 55 है। मैक्स पटपड़गंज में यह संख्या 33 है। इसके अलावा दिल्ली में और भी कई अस्पताल हैं जहां इंफेक्टिड स्वास्थ्यकर्मी हैं। इनमें कई नॉन कोविड अस्पताल हैं। हरी नगर स्थित दीनदयाल अस्पताल में इंफेक्टिड स्वास्थ्यकर्मियों की तादाद 2 है। नॉर्थ एमसीडी के हिंदूराव अस्पताल में दो नर्स, कस्तूरबा में एक डॉक्टर और राजन बाबू टीबी अस्पताल में दो कर्मचारियों में कोरोना का इंफेक्शन हुआ है। कोविड अस्पतालों की बात की जाए तो सबसे ज्यादा लेडी हार्डिंग में 16 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं। इसमें डॉक्टर की तादाद 5 हैं। सफदरजंग अस्पताल में 13 इंफेक्टिड स्वास्थ्यकर्मियों में से 10 डॉक्टर हैं। लोकनायक अस्पताल में कुल 14 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव हैं। दिल्ली एम्स में एक डॉक्टर समेत 20 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव हैं। इसमें नर्सों के अलावा सुरक्षाकर्मी भी शामिल हैं। सरकारी-प्राइवेट अस्पताल में 295 कोरोना पॉजिटिव, हर 13वां स्वास्थ्यकर्मी है।
आंबेडकर अस्पताल में कोरोना पॉजिटिव महिला की मौत से फैल गया इंफेक्शन
आंबेडकर अस्पताल के स्वास्थ्यकर्मियों में फैले कोरोना इंफेक्शन के बारे में कहा जा रहा है कि वहां जहांगीरपुरी निवासी 40 साल की महिला की मौत हो गई थी, जोकि कोरोना पॉजिटिव थी। इस महिला के संपर्क में आए स्वास्थ्यकर्मियों की जांच की गई तो वह भी कोरोना पॉजिटिव मिलते चले गए। इस तरह यहां आंकड़ा बढ़ते हुए 55 के पार तक पहुंच गया।

बाबू जगजीवन में इंफेक्शन अस्पताल को कोरोना हॉट-स्पॉट के नजदीक

बाबू जगजीवन अस्पताल में सबसे ज्यादा 80 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं। इनमें इंफेक्शन फैलने का कोई लिंक प्रशासन को नहीं मिल रहा लेकिन कहा जा रहा है कि अस्पताल हॉट-स्पॉट एरिया जहांगीरपुरी के नजदीक है। ऐसे में संभव है कि इंफेक्शन यहीं से फैला हो। यह बात अस्पताल के एमएस ने भी मानी थी।

कोरोना पॉजिटिव स्वास्थ्यकर्मियों की स्थिति

सफदरजंग अस्पताल: कुल 13, इसमें 10 डॉक्टर
एम्स: कुल 20, एक रेजीडेंट डॉक्टर
लेडी हार्डिंग: 5 डॉक्टर समेत कुल 16
लोकनायक अस्पताल: कुल 14
स्टेट कैंसर अस्पताल: 3 डॉक्टर और 18 नर्स
बाबू जगजीवन राम : कुल 80 स्वास्थ्यकमी, 15 डॉक्टर
अंबेडकर: कुल स्वास्थ्यकर्मी 55, सात डॉक्टर
आरएमएल : कुल 7, 4 डॉक्टर
चरक पालिका: एक स्वास्थ्य कर्मचारी
जीटीबी : 1 रेजीडेंट डॉक्टर
जगप्रवेश: कुल दो, एक महिला डॉक्टर
सरदार पटेल: एक स्वास्थ्यकर्मी
हिंदूराव: दो नर्स
आरबीटीबी: एक स्वास्थ्यकर्मी
अपोलो : कुल 5, एक मेल नर्स
मैक्स साकेत: 3 स्वास्थ्यकर्मी
मैक्स पटपड़गंज : तैंतीस
गंगाराम : दो स्वास्थ्य कर्मचारी
महाराजा अग्रसेन : डॉक्टर सहित पांच स्वास्थ्य कर्मचारी
बत्रा : एक फार्मेसी कर्मचारी
मूलचंद : एक कर्मचारी
मोहल्ला क्लीनिक : दो डॉक्टर
कैट्स एंबुलेंस : दो कर्मचारी
डीडीयू : तीन डॉक्टर
कस्तूरबा:-एक डॉक्टर
जीबी पंत : दो (एक डॉक्टर, एक नर्स)
चेस्ट अस्पताल : एक डॉक्टर
पहले कहा – स्वास्थ्यकर्मी को लिखित में बताना होगा कैसे हुआ इंफेक्शन, विरोध बढ़ा तो फैसला बदला
सरकार ने कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आने वाले कर्मचारी से यह लिखित में पूछने का फैसला किया है कि वह उसके संपर्क में कैसे आए। दिल्ली की हेल्थ सेक्रेटरी पदमिनी सिंगला की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि ऐसा पता चला है कि नॉन कोविड अस्पतालों के स्वास्थ्यकर्मी बड़ी तादाद में इंफेक्टिड हो रहे हैं। कैसे हुआ इंफेक्शन स्वास्थ्यकर्मी को लिखित में बताना होगा। लेकिन डॉक्टरों ने जब इस फरमान का विरोध किया तो आदेश पर अभी रोक लगा दी है। उधर, मैक्स पटपड़गंज में 33 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। मैक्स ने कहा है कि वह कर्मचारियों का टेस्ट करा रहा है।
(साभार: दैनिक भास्कर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »